कांग्रेस ने नोटबंदी को बताया आजादी के बाद सबसे बड़ा घोटाला, जनता 2019 में BJP खिलाफ वोट देकर लेगी नोटबंदी का बदला

Demonetisation 2nd anniversary Congress attacks Modi Govt

गुरुवार (8 नवंबर, 2018) को केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा देशभर में नोटबंदी लागू किए जाने को दो साल पूरे हो गए हैं। मोदी सरकार ने आज ही के दिन 8 नवंबर, 2016 को रात आठ बजे अचानक 500 और 1000 रुपये के नोट पर प्रतिबंध की घोषणा की थी, जिसे सभी लोग हैरान रह गए थे। उस वक्त बाजार में चल रही कुल करेंसी का 86 प्रतिशत हिस्सा यही नोट थे।

मोदी सरकार के दावों की खुली पोल

गौरतलब है कि, प्रधानमंत्री मोदी ने देशभर में नोटबंदी तो कर दी, लेकिन इसके साथ ही देश की जनता से जो वाद किए थे वह सभी खोखले साबित हुए। बता दें कि, सरकार ने कहा था कि इसके पीछे मुख्य मकसद कालाधन और भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाना है, लेकिन आरबीआई की रिपोर्ट ने सरकार के दावों पोल खोलकर रख दी है। आरबीआई के अनुसार अब तक कुल 15 लाख 31 हजार करोड़ रुपए के पुराने नोट वापस आ गए हैं।

उल्टा, नोटबंदी के वजह से देश की जनता को भारी मुश्किलों का सामना करना पढ़ा। 120 लोगों की जाने चली गई। अर्थव्यवस्था को लाखों करोड़ों का नुकसान हो गया। कई छोटे उद्योग धंधे बंद हो गए। लाखों लोग बेरोजगार हो गए। बता दें कि, पीएम मोदी ने जब देश में नोटबंदी की थी तभी विपक्ष और जानकारों ने नोटबंदी के फैसले के कारण अर्थव्यवस्था की हालत बुरी होने, बेरोजगारी बढ़ने और सकल घरेलू उत्पाद जीडीपी कम होने की आशंका जताई थी।

वहीं, विपक्ष ने नोटबंदी की घोषणा को दो साल पूरे होने पर मोदी सरकार पर एक बार फिर  जमकर निशाना साध रहा है। एक तरफ पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने मोदी सरकार के नोटबंदी के कदम को ‘‘विपदा’’ करार दिया। तो वहीं, कांग्रेस ने नोटबंदी को आजादी के बाद सबसे बड़ा ‘घोटाला’ बताया है।

ममता बेनर्जी ने नोटबंदी को बताया ‘विपदा’

जनता का रिपोर्टर की खबर के मुताबिक, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने 2016 में हुई नोटबंदी की घोषणा के गुरुवार (8 नवंबर) को दो वर्ष पूरे होने पर इस कदम को ‘‘विपदा’’ करार दिया। नोटबंदी के दिन को काला दिवस करार देते हुए बनर्जी ने ट्वीट कर कहा, “सरकार ने इस बड़े नोटबंदी घोटाले से हमारे देश के साथ धोखा किया है। इसने अर्थव्यवस्था और लाखों जिंदगियों को तबाह कर दिया। जिन लोगों ने ऐसा किया है लोग उन्हें दंडित करेंगे।”

बनर्जी ने एक अन्य ट्वीट में कहा, “नोटबंदी आपदा की आज ‘डार्कडे’ दूसरी वर्षगांठ है। जिस क्षण इसकी घोषणा हुई तब भी मैंने ऐसा ही कहा था। प्रसिद्ध अर्थशास्त्री, आम लोग और विशेषज्ञ अब सभी सहमत हैं।” आपको बता दें कि केंद्र ने 8 नवंबर, 2016 को रात आठ बजे अचानक 500 और 1000 रुपये के नोट पर प्रतिबंध की घोषणा की थी, जिसे सभी लोग हैरान रह गए थे।

Demonetisation 2nd anniversary Congress attacks Modi Govt

कांग्रेस ने नोटबंदी को बताया आजादी बाद सबसे बड़ा ‘घोटाला’

इस बीच कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता व मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने एक के बाद एक कई ट्वीट कर नोटबंदी को आजादी के बाद का सबसे बड़ा घोटाला बताया है। सुरजेवाला ने ट्वीट कर लिखा है, “मोदी जी, देशवासियियों को अब तक ‘अर्थव्यवस्था तहस-नहस दिवस’ यानि नोटबंदी की दूसरी बरसी की बधाई नहीं दी? कोई विज्ञापन भी नहीं? आप भूल गए होगे लेकिन देशवासियों को याद है। तैयार रहिए,पश्चात्ताप का समय अब दूर नहीं! जनता नोटबंदी का बदला BJP के ख़िलाफ़ वोट की चोट से लेगी।”

अपने अगले ट्वीट में कांग्रेस प्रवक्ता ने लिखा है, “नोटबंदी-: आज़ादी के बाद सबसे बड़ा घोटाला है। नोटबंदी से कालाधनधारकों की हुई ऐश, रातों रात ‘सफेद’ बनाया सारा कैश! न काला धन मिला, ना नक़ली नोट पकड़े गए, ना ही आतंकवाद व नक्सलवाद पर लगाम लगी! 120 लोग मारे गए, अर्थव्यवस्था को 3 लाख करोड़ का नुक्सान, लाखों नौकरियाँ गयी!”

एक अन्य ट्वीट में सुरजेवाला ने लिखा है, “वक़्त आगया है की PM मोदी इस तबाही की ज़िम्मेदारी लें, जिसके कारण आम जनता ने लगातार दर्द सहा। वक़्त आगया है नोटबंदी की जवाबदेही सुनिश्चित करने का। वक़्त आगया है नोटबंदी घोटाले की जाँच का, ताकि दोषी पकड़े जाएँ। देश कभी नहीं भूलेगा!”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *