दिल्ली हाईकोर्ट पहुंचे CBI एडिशनल एसपी, बोले- कोर्ट को गुमराह कर रहे हैं राकेश अस्थाना, FRI बिलकुल सही, घूसख़ोरी के है पुख्ता सबूत

CBI additional SP moves Delhi HC against rakesh Asthana

इस समय देश की सबसे बड़ी जांच एजेंसी केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) की विश्वसनीयता और प्रतिष्ठा दांव पर लगी हुई है। बता दें कि, देश के इतिहास में पहली बार सीबीआई के दो बड़े अफसरों ने एक दूसरे पर भष्टाचार के गंभीर आरोप लगाए हैं।

एक तरफ तो सीबीआई डायरेक्टर अलोक वर्मा ने अपनी ही संस्था के नंबर 2 अफ़सर स्पेशल डायरेक्टर व पीएम मोदी के करीब बताए जाने वाले राकेश अस्थाना के ख़िलाफ़ 3 करोड़ की रिश्वतख़ोरी के मामले में एफ़आईआर दर्ज की है, तो दूसरी तरफ़ अस्थाना ने सीबीआई के नंबर एक डायरेक्टर आलोक वर्मा के ख़िलाफ़ कई मामलों में करोड़ों रुपये की रिश्वत लेने संबंधी शिकायत कैबिनेट सेक्रेटरी को भेजी है।

गौरतलब है कि, सीबीआई में मचे घमासान के बीच हस्तक्षेप को लेकर मोदी सरकार भी विपक्ष के निशाने पर है। वहीं, सीबीआई मामला अब सुप्रीम कोर्ट जा पहुंचा है।

इसी बीच सीबीआई के  नंबर 2 अफ़सर स्पेशल डायरेक्टर व पीएम मोदी के करीब बताए जाने वाले राकेश अस्थाना खुद पर लगे आरोपों में फसते नज़र आ रहे हैं। दरअसल, एडिशनल SP गुरम ने कहा है कि राकेश अस्थाना कोर्ट को गुमराह करने का काम कर रहे हैं और सीबीआई द्वारा उनके खिलाफ की गई FIR बिल्कुल सही है।

CBI additional SP moves Delhi HC against rakesh Asthana
CBI additional SP moves Delhi HC against rakesh Asthana
CBI additional SP moves Delhi HC against rakesh Asthana

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, सीबीआई स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना (Rakesh Asthana) के खिलाफ सीबीआई के एडिशनल SP एसएस गुरम ने दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दाखिल की है। इस याचिका में उन्होंने कहा कि अस्थाना के खिलाफ 15 अक्टूबर को सीबीआई में दर्ज FIR बिल्कुल सही है। FIR दर्ज करने में कानूनी प्रक्रिया का पालन किया गया है और अब राकेश अस्थाना कोर्ट को गुमराह कर रहे हैं।

याचिका में दिल्ली हाईकोर्ट से अस्थाना की उस याचिका को खारिज करने की मांग की गई है जिसमें अस्थाना ने FIR रद्द करने की मांग की है। गुरम ने कहा है कि अस्थाना पर जुर्माना भी लगाया जाए। गुरम ने अस्थाना की याचिका में उन्हें शामिल करने की अपील भी की है।  साथ ही यह भी कहा है कि यह FIR सुप्रीम कोर्ट के ललिता कुमारी फैसले के तहत दर्ज की गई। जिसमें कहा गया था कि किसी संज्ञेय अपराध की शिकायत मिलने पर FIR दर्ज की जाए।

चौंकाने वाली बात यह है कि सीबीआई के एडिशनल SP एसएस गुरम ने अपनी याचिका में दावा किया है कि स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना के खिलाफ पुख्ता सबूत हैं। साथ ही ये भी कहा है कि रॉ के सामंत गोयल भी इसकी अगली कड़ी हैं। उन्होंने कहा है कि राकेश अस्थाना को पिछले साल 2.95 करोड़ रुपये दिए गए थे और फिर घूस के रूप में 36 लाख रुपये और दिए गए।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *